सभी दिव्यांगजन हेतु ऐसे समावेशी समाज का निर्माण करना जिसमें दिव्यांगजनों की सुरक्षा, विकास एवं प्रगति के लिए समान अवसर उपलब्ध हो सकें ताकि वे सुरक्षित, गुणवत्तापूर्ण एवं गरिमामय जीवन का निर्वाह कर सकें”

आगंतुक